मुसलमानों कान खोल कर सुनलो  ज़माना तुम्हें जाहिल और अनपढ़ देखना चाहता है भारत के मुस्तकबिल का हिस्सेदार नहीं बनाना चाहता,क्या आप आजम खां के इस ब्यान से सहमत है ?हां/नही में अपनी राय दे
मुसलमानों कान खोल कर सुनलो
ज़माना तुम्हें जाहिल और अनपढ़ देखना चाहता है भारत के मुस्तकबिल का हिस्सेदार नहीं बनाना चाहता, अगर तुम्ही अपने बारे में नहीं सोचोगे तो सात समुंदर पार से कोई तुम्हारा हाथ पकड़कर कलम देने वाला नहीं
आयेगा.
आजम खान साहब
युवा पीढ़ी को नई किरण अच्छी एडवाइज देने का उन्हें हमेशा से शौक था, उन्होंने यूनिवर्सिटी बनाने के लिए अपना सब कुछ दांव पर लगा दिया।
आजम खान साहब ने यह बयान एक सभा को संबोधित करते हुए दिया था..
आप आजम खां के इस बयान से क्या सहमत है

YOUR REACTION?