ह्यूमन राइट्स जस्टिस असोसिएशन सोलापुर जिल्हा की ओर से फ्री मेडिकल कैम्प का आयोजन किया गया.
कंचन फाउंडेशन की ओर से मरीज़ों को मुफ्त दवाइयों का वितरण किया जायेगा.

महाराष्ट्र, सोलापुर दि.29अप्रैल

आज सारे शहर में स्वास्थ्य सम्बन्धी समस्या अपने चरम पर है. कोरोना ने हाहाकार मचाया हुआ है. जिल्हा प्रशासन स्वास्थ्य सेवा देने में असमर्थ है.कहीं बेड नहीं मिल रहें है तो कहीं ऑक्सीजन नहीं है. सामान्य नागरिक हॉस्पिटल का खर्च करने में असमर्थ है. ऐसी स्थिति करीब करीब महाराष्ट्र के हर जिल्हे की है.

ह्यूमन राइट्स जस्टिस असोसिएशन के महाराष्ट्र प्रदेश उपाध्यक्ष मा बाबूमियां शेख (पात्रावाला) के मार्गदर्शन में सोलापुर जिल्हा अध्यक्ष मा. शाहनवाज़ कंपली, मो. दोस्त सौदागर, ज़हीर कामतीकर इत्यादि ने फ्री मेडिकल कैम्प लगाने का नियोजन किया. ये खबर मिलते ही कंचन फाउंडेशन के मा. सुदीप दादा चाकोते ने जिल्हा अध्यक्ष मा. शाहनवाज़ कंपली को दवाइयों का मुफ्त वितरण करने की इच्छा जताई जिसे टीम ने स्वीकार किया.

प्रदेश उपाध्यक्ष मा. बाबुमियाँ शेख ने जस्ट आज से बात करते हुए कहा के ये मेडिकल कैम्प 15दिनों तक दोपहर 2 pm से 6pm तक रहेगा जिसमें डॉ. इलियास शेख अपनी पूरी टीम के साथ मौजूद होंगे.

जिल्हा अध्यक्ष शाहनवाज़ कंपली ने कहा के राष्ट्रीय अध्यक्ष मा. वसीमअकरमजी, राष्ट्रीय उपाध्यक्ष मा. तनवीर मुजावरजी और महाराष्ट्र प्रदेश अध्यक्ष मा. हनीफ डफेदारजी के निर्देशानुसार संघटन हर आपदा में गरीब एवं पिछड़े वर्ग की सेवा के लिए हमेशा तत्पर रहेगा.

भीमआर्मी महाराष्ट्र के महासचिव मा. डॉ. कीर्तिपाल गायकवाड़जी ने कैम्प का निरिक्षण कर कहा के आज इस महामारी के चलते सारे महाराष्ट्र में तबाही मची हुई है. सामान्य जनता बेहाल है. लॉकडाऊन के चलते आर्थिक संकट में है. ऐसे में ह्यूमन राइट्स जस्टिस असोसिएशन का ये उपकर्म निश्चित ही कौतुकास्पद है. 

कंचन फाउंडेशन के मा. सुदीप दादा चाकोते ने कहा के ह्यूमन राइट्स जस्टिस असोसिएशन सोलापुर की टीम हमेशा समाजकार्य में आगे रहती है. ऐसे महामारी के दौर में सारे संघटनों को ह्यूमन राइट्स जस्टिस असोसिएशन से सीख लेनी चाहिए.

इस अभिनव उपकर्म को तौहीद पात्रावाला, हाजी इब्राहिम कामतीकर, चाँदसाब इनामदार, हुसैन बसरी आदि ने शुभकामनायें दी.

फ्री मेडिकल कैम्प का निरिक्षण करते हुए मा. डॉ. कीर्तिपाल गायकवाड़ और मा. सुदीपदादा चाकोते

फ्री मेडिकल कैम्प का निरिक्षण करते हुए मा. डॉ. कीर्तिपाल गायकवाड़ और मा. सुदीपदादा चाकोते

YOUR REACTION?